छोटे बच्चों में होने वाले थैलेसेमिया रोग का इलाज आपकी सावधानी पर निर्भर है

थैलेसेमिया

नमस्कार दोस्तों सेहत सुंदर में आपलोगों का फिर से एक बार स्वागत है। आज हम अपने इस आर्टिकल में आपलोगों को थैलेसेमिया से जुड़ी कुछ जरूरी बातें बताने जा रहे हैं। आर्टिकल ज्यादा बड़ा न हो जाए और आपको उबन न हो इसलिए इस पूरी जानकारी को कई भागों में प्रकाशित किया जा रहा है। दोस्तों अपने पिछले आर्टिकल में हमने आपको बताया है कि छोटे बच्चों में थैलेसेमिया का विषाणु कैसे जन्म लेता है और यह शरीर पर क्या असर डालता है। इस आर्टिकल में हम आपको इससे बचने के कुछ उपाय और इसके लिए मौजूद इलाज के बारे में बताने जा रहे हैं। तो चलिए शुरू करते हैं।

सबसे पहली और जरूरी सावधानी तो यह है कि आप विवाह से पूर्व अपने जीवन साथी का थैलेसेमिया टेस्ट जरूर करवाएँ। अगर आप दोनों का टेस्ट रिजल्ट पॉज़िटिव है तो कतई उस व्यक्ति से विवाह न करें क्योंकि आपकी यह असावधानी और नजरअंदाजी आपकी आने वाली पीढ़ी के लिए प्राण घातक साबित हो जाएगी। लेकिन अगर ऐसा हो चुका है और संतान इस बीमारी की चपेट में आ चुकी है तो इसका इलाज तो नहीं पर कुछ उपाय मौजूद हैं जिनकी मदद से बच्चे को कुछ समय तक जीवित रखा जा सकता है।

जैसा कि पहले के आर्टिकल में बताया जा चुका है कि इसका विषाणु शरीर में रक्त नहीं बनने देता, तो इस रोग से पीड़ित बच्चे को हर दस से पंद्रह दिनों में रक्त चढ़ाना पड़ता है। लेकिन रक्त चढ़ाना काफी कीमती होता है। साधारण वर्ग के लोग अधिक दिनों तक यह नहीं कर पाते हैं और संतान की मृत्यु हो जाती है। साथ ही यह भी जान लें कि इस उपाय से भी बच्चे को 12-14 वर्ष की आयु त्क़क बचाया जा सकता है। बिलकुल सही इलाज किया जाए तो अधिक से अधिक 25 वर्ष की आयु तक।

छोटे बच्चों में कैसे जन्म लेता है थैलेसेमिया का विषाणु और यह क्या असर करता है

शादी से पहले की आपकी एक गलती के कारण होता है आने वाली संतान को थैलेसेमिया

दोस्तों दुनिया भर के डॉक्टर और वैज्ञानिक इसका इलाज ढूँढने में जूते हुए हैं। और वह सभी बोन मैरो की मदद से इसका इलाज खोजने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन अभी भी कामयाबी हासिल नहीं हुई है। इसलिए आपलोगों से अनुरोध है कि इलाज की तरफ जाने से कई गुना ज्यादा अच्छा सावधानी बरतना होगा। तो टेस्ट जरूर करवाएँ ताकि आपकी आने वाली पीढ़ी सुरक्षित रहे।

दोस्तों यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेन्ट बॉक्स में बताएं। ऐसी ही स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारियाँ पाने के लिए आपसे अनुरोध है कि आप इस जानकारी को अधिक से अधिक शेयर करें और लाइक करें।